Wo Shaheed Ho Gya Janab  | Arunendra Kumar | Poetry | Kargil Vijay Diwas

Wo Shaheed Ho Gya Janab | Arunendra Kumar | Poetry | Kargil Vijay Diwas

20 thoughts on “Wo Shaheed Ho Gya Janab | Arunendra Kumar | Poetry | Kargil Vijay Diwas

  1. शायरी पढ़ने के लिये instagram पर ज़रूर जुड़ें! ❤️
    https://www.instagram.com/arunendra7

    मन में था सपना तिरंगा लहरा कर आयेंगे,
    उन्हें क्या था पता वो उसी तिरंगे में लिपट कर आयेंगे!

  2. 😰😰😰😰realy heartuching words… Mujhe lgta hai sb pyr muhbbat k bare main likhty hai… Likhna hai to hmari army pr likho jo hmare liye jan dy de dyte hai… Thnku sir apny itna asha topic liya topic nhi schai… God bless u dear

  3. This one is the best one and a great message for the govt. Tooo… God bless you dear 💕💕💕💕💕💕💕

  4. उनको हिन्दुस्थान का कशमीर भी चाहिए
    उनको हिन्दुस्थान का भोजन पानी भी चाहिए
    उनको हिन्दुस्थान म का नौकरी पैसा भी चाहिए
    और वो हिंदुस्तान के लोगो को भी मारना चाहते है
    और जब उनकी रूह कांपती है तो उनको हिन्दुस्थान से माफ़ी भी चाहिए
    ऐसा केसे चलेगा पाकिस्तान 😂🤦

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *