है नमन उनको | Hai Naman Unko | Indore 2018

है नमन उनको | Hai Naman Unko | Indore 2018

29 thoughts on “है नमन उनको | Hai Naman Unko | Indore 2018

  1. हिंदी के कवि सम्राट ड़ॉ. कुमार विश्वास जी आपको सहृदय धन्यवाद्।
    शहीदों के सम्मान में जो आपकी रचना है ये वाकई में सोचने को मजबूर कर देती है।
    धन्यवाद्।
    जय हिंद

  2. Goosebumps and wet eyes. Take a bow. The best fighter with words – Dr Kumar Vishwas.

    Hai naman unko jinke saamne bona Himalay.

  3. कुमार विशवास जी आप पर माँ सरस्वती जी की असीम कृपा है आप को नमन
    इस कविता को में रोज़ कई वर सुनता हूं और उतनी वार ही मेरी आँखें झलक जाती है
    सहीदो को सत सत नमन
    जय हिंद

  4. "है नमन उनको कि जिनके सामने बौना हिमालय

    जो धरा पर गिर पड़े, पर आसमानी हो गए हैं" jai hind.

  5. "है नमन उनको कि जिनके सामने बौना हिमालय

    जो धरा पर गिर पड़े, पर आसमानी हो गए हैं" JAI HIND

  6. कारगिल विजय को समर्पित यह कविता।
    बहुत गर्व महसूस करता हूँ अपने जवानों और इस जान से प्यारे तिरंगे को🇮🇳.
    जय हिंद।।
    जय भारत।।
    जय जवान।।
    जय किसान।।

  7. मैं अब तक इस कविता को 10 बार से ऊपर सुन चुका हूं एक बार भी अपने नयन को नही रोक पाया
    बहुत ही अद्भुत रचना
    शब्द कम पड़ रहे हैं ।
    बहुत खूब

  8. आज कारगिल विजय दिवस पर आपकी ये पंक्तियाँ सुनकर ह्रदय भाव विह्वल हो गया !!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *